Moral Story In Hindi For Kids- मां की चाहत

यह कहानी है एक गांव की जिसमें रहते हैं कई परिवार हम बात करेंगे उनमें से एक परिवार की जिसका नाम है शर्मा परिवार वैसे तो यह गांव शहर से बहुत दूर है जिसको तय करने में तीन-चार दिन लग जाते हैं।जिसकी वजह से लोगों को काफी दिक्कत होती थी और समय भी खराब होता था। लेकिन इस समय को कम किया जा सकता था अगर गांव और शहर के बीच की खाई नहीं होती। 

            


यह खाई बहुत गहरी  थी इसमें काफी पशु और इंसान गिर चुके थे शर्मा परिवार बहुत गरीब था इस परिवार में तीन ही सदस्य थे देवी और लेख राम जो आपस में पति-पत्नी थे जिन का एक छोटा सा बच्चा था जिसका नाम करण था।जब करण 5 साल का था तभी उसके पिता खाई के पास काम करते समय खाई में गिर गए जिससे उनकी मृत्यु हो गई तब से उसकी मां देवी उसका पालन पोषण करती थी और वह भी खाई के पास काम करने जाने लगी। 

अब करण 20 वर्ष का हो गया था और उसकी मां की उम्र ज्यादा हो गई थी। ज्यादा काम करने की वजह से वह बीमार रहने लगी तब से करण मां की जगह काम करने लगा। उसकी मां उसके लिए रोज दोपहर का खाना लाती थी एक दिन रात भर बहुत तेजी से बारिश हुई।

           


 हर रोज की तरह आज भी करण काम के लिए निकला खाई के आसपास पानी भरा हुआ था और बहुत फिसलन थी दोपहर के समय जब उसकी मां खाना लेकर आई तो उसका पैर फिसल गया और वह सीधे खाई में गिर गई और बच ना सकी। यह सब करण की आंखों के सामने हुआ लेकिन वह कुछ ना कर सका।

 तब उसने कसम खाई कि वह इस खाई को भर देगा ताकि किसी और की मां ऐसे ना मरे। पाच साल बीत गए लेकिन अभी तक आधी खाई ना भर सकी। उसने एक बड़े पहाड़ को थोड़ा ताकि वह खाई को भर सके आखिर 25 साल बाद वह दिन आ गया जिस दिन गहरी खाई भर चुकी थी अब लोग भी खाई के ऊपर से शहर जाने लगे ताकि शहर जल्दी पहुंच सके।

Thanks to Reading my story in Hindi.

Post a Comment

0 Comments